Essay On Vidyarthi Aur Anushasan In Hindi

विद्यार्थी जीवन और अनुशासन


समाज की सहायता के बिना मानव जीवन का अस्तित्व असम्भव है। सामाजिक जीवन को सुख संपन्न बनाने के लिए कुछ नियमों का पालन करना पड़ता है। इन नियमों को हम सामाजिक जीवन के नियम कहते हैं। इनके अंतर्गत मनुष्य व्यक्तिगत एवं सामूहिक रूप से नियमित रहता है तो उसके जीवन को अनुशासित जीवन कहते हैं। हमारे जीवन मे ‘अनुशासन’ एक ऐसा गुण है, जिसकी आवश्‍यकता मानव जीवन में पग-पग पर पड़ती है। अनुशासन ही मनुष्य को एक अच्छा व्यक्ति व एक आदर्श नागरिक बनाता है।

'अनुशासन सफलता की कुंजी है'- यह किसी ने सही कहा है। अनुशासन मनुष्य के विकास के लिए बहुत आवश्यक है। यदि मनुष्य अनुशासन में जीवन-यापन करता है, तो वह स्वयं के लिए सुखद और उज्जवल भविष्य की राह निर्धारित करता है। अनुशासन मानव-जीवन का आवश्यक अंग है। मनुष्य को जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में चाहे वह खेल का मैदान हो अथवा विद्यालय, घर हो अथवा घर से बाहर कोई सभा-सोसायटी, सभी जगह अनुशासन के नियमों का पालन करना पड़ता है। जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में अनुशासन का महत्व है। अनुशासन से धैर्य और समझदारी का विकास होता है। समय पर सही निर्णय लेने की क्षमता बढ़ती है।

परिवार अनुशासन की आरंभिक पाठशाला है। अनुशासन का पाठ बचपन से परिवार में रहकर सीखा जाता है। बचपन के समय मे अनुशासन सिखाने की जिम्‍मेदारी माता-पिता तथा गुरूओं की होती है। एक सुशिक्षित और शुद्ध आचरण वाले परिवार का बालक स्वयं ही नेक चाल-चलन और अच्छे आचरण वाला बन जाता है। माता-पिता की आज्ञा का पालन उसे अनुशासन का प्रथम पाठ पढ़ाता है। परिवार के उपरांत अनुशासित जीवन की शिक्षा देने वाला दूसरा स्थान विद्यालय है। शुद्ध आचरण वाले सुयोग्य गुरुओं के शिष्य अनुशासित आचरण वाले होते हैं। ऐसे विद्यालय में बालक के शरीर, आत्मा और मस्तिष्क का संतुलित रूप से विकास होता है।

विद्यार्थी समाज की एक नव-मुखरित कली है। इन कलियों के अंदर यदि किसी कारणवश कमी आ जाती है तो कलियाँ मुरझा ही जाती हैं, साथ-साथ उपवन की छटा भी समाप्त हो जाती है। यदि किसी देश का विद्यार्थी अनुशासनहीनता का शिकार बनकर अशुद्ध आचरण करने वाला बन जाता है तो यह समाज किसी न किसी दिन आभाहीन हो जाता है। विद्यार्थी हमारे देश का मुख्य आधार स्तंभ है। यदि इनमें अनुशासन की कमी होगी, तो हम सोच सकते हैं कि देश का भविष्य कैसा होगा। विद्यार्थी के लिए अनुशासन में रहना और अपने सभी कार्यों को व्यवस्थित रूप से करना बहुत आवश्यक है।

विद्यार्थी को चाहिए कि विद्यालय में रहकर विद्यालय के बनाए सभी नियमों का पालन करे। अध्यापकों द्वारा पढ़ाए जा रहे सभी पाठों को अध्ययन पूरे मन से करना चाहिए क्योंकि विद्यालय का जीवन व्यतीत करने के उपरांत जब छात्र सामाजिक जीवन में प्रवेश करता है तो उसे कदम-कदम पर अनुशासित व्यवहार की आवश्यकता होती है। यदि विद्यर्थियों में अनुशासन नहीं होगा तो समाज की दशा बिगड़ेगी और यदि समाज की दशा बिगड़ेगी तो देश कैसे उससे अछुता रहेगा। अनुशासनहीन व्यक्ति केवल अपने लिए ही नहीं, समस्त देश व समाज के लिए घातक सिद्ध होता है। अनुशासित विद्यार्थी अनुशासित नागरिक बनते हैं एवं अनुशासित नागरिक एक अनुशासित समाज का निर्माण करते हैं।

अनुशासन का वास्तविक अर्थ अपनी दूषित और दूसरों को हानि पहुँचाने वाली प्रवृत्तियों पर नियंत्रण करना है। अनुशासन के लिए बाहरी नियंत्रण की अपेक्षा आत्मनियंत्रण करना अधिक आवश्यक है। वास्तविक अनुशासन वही है जो कि मानव की आत्मा से सम्बन्ध हो क्योंकि शुद्ध आत्मा कभी भी मानव को अनुचित कार्य करने को प्रोत्साहित नहीं करती।


किसी भी व्यक्ति के लिए विद्यार्थी जीवन अत्यंत महत्वपूर्ण है। छात्र जीवन में ही सीखी गई बातें आगे के जीवन में काम आता है। अगर छात्र विद्यार्थी जीवन में अपने समय का सदुपयोग करते हैं और ज्यादा से ज्यादा शिक्षा ग्रहण करते हैं तो आगे के भविष्य में उन्हें बहुत फायदा पहुंचता है। छात्र जीवन में अनुशासन का अत्यंत महत्व है क्योंकि अगर छात्रों में अनुशासन का अभाव होगा तो वह उपयोगी शिक्षा ग्रहण करने की जगह गलत चीजों में अपना समय नष्ट करेंगे। ज्यादातर छात्र कम उम्र के होते हैं उन्हें सही या गलत की बहुत अच्छे से परख नहीं होती है, अगर उनमें अनुशासन की कमी होगी तो वह आसानी से गलत रास्ते पर जा सकते हैं और एक बार गलत रास्ते पर जाने के बाद फिर से वापस सही रास्ते पर आने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

माता-पिता और शिक्षकों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि विद्यार्थी अनुशासित जीवन जी रहा है और अगर विद्यार्थी अनुशासन बनाए रखने में कष्ट महसूस कर रहा है तो इसका कारण समझना चाहिए और जिस भी कारणों से बच्चों को अनुशासन का पालन करने में कठिनाइयां आ रही हो तो उस कारण को दूर करने का प्रयास करना चाहिए, क्योंकि छात्र जीवन ही आदमी के आगे के जीवन का आधार है। जब तक छात्र कुछ सीख रहा है उसे सीखने का पूरा मौका दिया जाना चाहिए। ऐसा देखा गया है कि बहुत सारे विद्यार्थी सिर्फ परीक्षा के समय ही अच्छी तरह पढ़ाई करते हैं और बाकी समय खेलते-कूदते रहते है, उन्हें यह नहीं पता होता है कि विद्यार्थी जीवन का समय कितनी जल्दी बीत जाता है और उनका यह कीमती समय नष्ट हो जाता है इसलिए विद्यार्थी को अनुशासन में रहना चाहिए।

(word count: 280)

One thought on “Essay On Vidyarthi Aur Anushasan In Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *